Thursday, May 7, 2009

आगस्टो बोएल का निधन

रियो डी जनेरियो। अपनी अनोखी शैली के लिए विख्यात ब्राजीली रंगमंच निर्देशक और पटकथा लेखक अगस्टो बोएल का 78 साल की उम्र में निधन हो गया। रियो के अस्पताल समारितानो में लंबे समय से ल्यूकेमिया से पीड़ित बोएल का निधन 2 मई 2009 को सांस में परेशानी के बाद निधन हुआ। कोलंबिया विश्वविद्यालय से रंगमंच कला अध्ययन करने वाले बोएल ने 60 के दशक में पटकथा लेखक निर्देशक और अभिनेताओं के श्रोताओं से संवाद के लिए ’थियेटर आॅफ आप्रेस्ड’ बनाया था। सन् 1964 से 1985 के बीच ब्राजील के तानाशाही शासन ने उन्हें देश से निष्कासित कर दिया था।
विश्व रंगमंच दिवस 27 मार्च को इंटरनेशनल थियेटर इंस्टीट्यूट यूनेस्को द्वारा जो अन्तर्राष्ट्रीय संदेश जारी किया जाता है इस वर्ष 2009 के लिए यह संदेश आॅगस्टो बोएल द्वारा दिया गया था।

एकजुट का बच्चों का बच्चों का थियेटर वर्कशाॅप
एकजुट, मुम्बई द्वारा 7 से 14 वर्ष के बच्चों के लिए मुम्बई में बांद्रा और लोखंडवाला में दो वर्कशाप 8 से 17 मई 2009 तक आयोजित हैं। इस 10 दिवसीय वर्कशाॅप में बच्चों व किशोरों को अभिनय, कथाकथन, थियेटर गेम्स, संवाद अदायगी, शब्द उच्चारण, चरित्र निर्माण, इम्प्रोवाइजेशन, संगीत व नृत्य का प्रशिक्षण दिया जायेगा। इस वर्कशाप में शामिल होने के लिए मोबाइल नं 9323738846 पर संपर्क किया जा सकता है।
लोहाकुट
बलवंत गार्गी के नाटक ’लोहाकुट’ का मंचन लिटिल थेस्पियन, कोलकाता द्वारा 6 मई 2009 को शिशिर मंच कोलकाता में किया गया। परिकल्पना व निर्देशन एस एम अज़हर आलम का था। यह कहानी 1944 में लिखी गई थी। इस नाटक में एक ग्रामीण महिला 18 साल के प्रेमविहीन वैवाहिक जीवन के बाद अपने पति को छोड़कर युवावस्था के प्रेमी के साथ जाने का फैसला करती है। इस निर्णय में उसकी लड़की का भी योगदान होता है जो पिता द्वारा तय गई पारंपरिक शादी तोड़कर अपने प्रेमी के साथ भाग जाती है। नाटक में जीवन की निर्मम सचाई और यथार्थ को प्रदर्शित किया गया है।
पुस्तक प्रदर्शनी
केन्द्रीय संगीत नाटक अकादमी, नई दिल्ली द्वारा मेघदूत रंगशाला, रवीन्द्रभवन नई दिल्ली में प्रदर्शनकारी कलाओं पर पुस्तक प्रदर्शनी व विक्रय आयोजित हुई। प्रदर्शनी 6 मई तक जारी रही।
अस्मिता, दिल्ली की कार्यशाला
अस्मिता, दिल्ली ने हैबीटैट वल्र्ड, इंडिया हैबिटैट वल्र्ड, नई दिल्ली में 9 मई से 5 जून 2009 तक एक थियेटर वर्कशाप का आयोजन किया है। इसमें 15 वर्ष से ऊपर के बच्चे और युवा शामिल हो सकते हैं। अभिनय पर केन्द्रित इस कार्यशाला का निर्देशन श्री अरविंद गौड़ करेंगे।
जंगलधूम डाट काम
एकजुट, मुम्बई द्वारा 1 मई को हार्नीमन सर्किल गार्डन, मुम्बई में बच्चों का नाटक ’जंगलधूम डाट काम का मंचन किया गया। हरियाला जंगल में एक नन्हीं कोयल रहती है जिसे उसकी मां स्वार्थवश एक कौवे के घोंसले में छोड़कर चली जाती है। कौवे की मां कागी नन्हीं कोयल सरगम की देखभाल करती है और उसे पालती पोसती है। बाजबहादुर जो जंगल का राजा है एक गायन प्रतियोगिता का आयोजन करता है। कागी सरगम को इस प्रतियोगिता में भाग लेने के लिये प्रोत्साहित करती है। सरगम इस प्रतियोगिता को जीत लेती है। बुराई पर अच्छाई की विजय होती है।
नाटक क्षिप्रा शुक्ला ने लिखा है। नाटक का निर्देशन नादिरा बब्बर ने किया है।
पतझड़
डा एस एम अजहर आलम के निर्देशन में लिटिल थेस्पियन, कोलकाता ने 30 अप्रैल 2009 को ’पतझड़’ नाटक का प्रथम मंचन किया। यह नाटक टेनेसी विलियम्स की कथा पर आधारित है। यह एक परिवार की कहानी है जिसमें मां गायत्री, पुत्र इंदीवर और अपाहिज लड़की यामिनी है। यामिनी के मन में पति के रूप में एक टेलिफोन कंपनी में काम करने वाले नौजवान की कल्पना है। गायत्री चाहती है कि उसके बच्चे अच्छे से रहें। वो इंदीवर को यामिनी के लिये लड़का तलाश करने के लिये कहती रहती है। एक दिन एक लडका आता है जो बहुत अच्छा व्यवहार करता है। गायत्री को उम्मीद है कि वो यामिनी से शादी कर लेगा। लेकिन वो बताता है कि उसकी सगाई हो चुकी है। गायत्री के जीवन में जैसे पतझड़ आ
जाता है।
कागज के पक्षी
बैकस्टेज, इलाहाबाद ने प्रवीण शेखर के निर्देशन में ’कागज के पक्षी’ का मंचन 27 अपै्रल 2009 को किया। इसका रूपांतर देवेन्द्र प्रकाश सिंह ने किया है। यह एक जापानी लड़की सडाको की कहानी है जो 2 साल की थी जब हिरोशिमा पर बम गिराया गया। जब सडाको 12 साल की हुई तब पता चला कि अणुबम के दुष्प्रभाव से उसे ल्यूकेमिया हो गया है। उसकी मौत करीब है। उसे बताया गया कि जापानी लोकश्रुति के अनुसार यदि वह एक हजार कागज के पक्षी बनायेगी तो वह बच जायेगी। परंतु एक दिन जब वह 644 पक्षी ही बना पाई थी उसकी मृत्यु हो गई उसके साथी बच्चों ने उसके बाकी कागज के पक्षी बनाये। सडाको की याद में एक स्मारक बनाया गया है।
पेंसिल से ब्रश तक
25 व 26 अप्रैल 2009 को एकजुट, मुम्बई द्वारा पृथ्वी थियेटर में अपने प्रसिद्ध नाटक ’पेंसिल से ब्रश तक’ का मंचन किया गया। यह नाटक सुप्रसिद्ध चित्रकार मकबूल फिदा हुसैन के जीवन पर आधारित है। इसका निर्देशन नादिरा बब्बर ने किया है। इसमे टाॅम आल्टर प्रमुख भूमिका में हैं। यह नाटक 18 व 19 अप्रैल 2009 को एनसीपीए मुम्बई में मंचित हुआ। जबकि 16 व 17 अपै्रल 2009 को नादिरा बब्बर अभिनीत व निर्देशित नाटक ’बेगम जान’ का मंचन एनसीपीए में हुआ। यह गुजरे जमाने की शास्त्रीय गायिका की कहानी है।

11 comments:

  1. हिमान्शु भाई
    सलाम

    ये ब्लाग डाल कर शानदार काम किया है।
    अब सम्पर्क बना रहेगा।

    ReplyDelete
  2. Bohot achhee jaankaaree hai..
    snehaadarsahit
    shama

    ReplyDelete
  3. चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है.......भविष्य के लिये ढेर सारी शुभकामनायें.

    गुलमोहर का फूल

    ReplyDelete
  4. स्वागत है...शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  5. हिंदी ब्लॉग की दुनिया में आपका तहेदिल से स्वागत है....

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर लिखा है। बधाई स्वीकारें। मेरे ब्लोग पर आने की जहमत उठाएं। शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छा लिखा है . मेरा भी साईट देखे और टिप्पणी दे
    वर्ड वेरीफिकेशन हटा दे . इसके लिये तरीका देखे यहा
    http://www.manojsoni.co.nr
    and
    http://www.lifeplan.co.nr

    ReplyDelete
  9. swagat............badhai......all the best

    ReplyDelete
  10. हिमांशु भाई
    समाचारों और जानकारियों के लिए धन्यवाद.
    उम्मीद है आपके ब्लॉग द्बारा रंगमंच से सम्बंधित समाचार मिलते रहेंगे.

    - विजय - विजय तिवारी " किसलय "

    ReplyDelete